सोमवार, 25 अप्रैल 2011

धूप-छाँह

तरुवरों से घिरा रस्ता
धूप थोड़ी छाँह थोड़ी
जिंदगी सा-
नजर तक
आता था सीधा
अंत पर दिखता नहीं था

8 टिप्‍पणियां:

  1. क्षणिका बहुत अच्छी लगी .लिखते रहिये ऐसे ही .बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. रश्मिप्रभा और एलकेपी जी सराहना के लिये धन्यवाद। शिखा जी आपके प्रोत्सान के लिये आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिंदगी वाकई धूप छाँव का खेल ..बहुत अच्छे पूर्णिमा जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ लाइनों में लिखा जीवन का दस्तावेज़ ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. दिगंबर जी, आप सदा समय निकालकर कुछ न कुछ टिप्पणी लिखते हैं बहुत अच्छा लगता है। वंदना जी प्रोत्साहन के लिये आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्षणिकाएं अच्छी लिखती हैं आप।

    उत्तर देंहटाएं